हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रुठै नहीं ठौर

0
194

भारत में जैसे पांच सितम्बर को पहले उपराष्ट्रपति एस. राधाकृष्णन की याद में शिक्षक दिवस मनाया जाता है, वैसे ही दुनियां के अलग अलग देशों में अलग अलग दिन टीचर्स डे का आयोजन किया जाता है। रूस में 1965 से लेकर 1994 तक अक्टूबर महीने के पहले रविवार के दिन शिक्षक दिवस मनाया जाता था। जब 1994 में इंटरनेशनल टीचर्स डे को 5 अक्टूबर को मनाये जाने की घोषणा हुई तो रूस ने भी इसी दिन टीचर्स डे मनाना शुरू कर दिया।

पडोसी देश चीन में 1931 में ही नेशनल सेंट्रल यूनिवर्सिटी में शिक्षक दिवस की शुरुआत की गयी थी पर बाद में 1939 में कंफ्यूशियस के जन्मदिन 27 अगस्त को शिक्षक दिवस घोषित किया गया, लेकिन इस घोषणा को भी 1951 में वापस ले लिया गया। बाद में 1985 में 10 सितम्बर को शिक्षक दिवस घोषित किया गया। वैसे अभी यहाँ दोबारा कंफ्यूशियस के जन्मदिन को शिक्षक दिवस घोषित करने की मांगें उठती रहती हैं।

शिक्षक दिवस कोरिया भी मनाता है। दक्सिं कोरिया में 1963 से 15 मई को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। अनोखी बात ये है कि इसे रेड क्रॉस के सदस्यों ने शुरू किया था जो अपने पूर्व शिक्षकों से अस्पतालों में मिलने जाते थे। इस आयोजन पर 1973 से 1982 के बीच रोक लगा दी गयी थी। बाद में इसे दोबारा शुरू कर दिया गया। अर्जेंटीना के सातवें राष्ट्र्परी डोमिंगो फोस्तिनो सारमियेन्तो की पुण्यतिथि पर 11 सितम्बर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है।

हमारे पड़ोसी देश नेपाल में भी शिक्षक दिवस मनाया जाता है। वहां परंपरा के मुताबिक अषाढ़ के महीने में पूर्णिमा को यानी गुरु पूर्णिमा को शिक्षकों के प्रति आभार व्यक्त करते हैं। आम तौर पर ये जुलाई में आता है। कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि शिक्षक दिवस पूरी दुनियां मनाती है। अलग से अंतर्राष्ट्रीय शिक्षक दिवस की शुरुआत होने के बाद तो ये विश्व भर में मनाया जाने लगा है।

बरसों पहले कभी 15 अक्टूबर 1827 को प्रेडो प्रथम ने ब्राज़ील में प्राइमरी स्कूल की स्थापना का आदेश दिया था। इसकी याद में साऊ पोलो में 15 अक्टूबर 1947 से शिक्षक दिवस मनाया जाने लगा। बाद में 1963 में आधिकारिक रूप से इस दिन को शिक्षक दिवस घोषित कर दिया गया। पांच अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय शिक्षक दिवस के ही दिन इसे मनाने वालों में मॉरिशस, बांग्लादेश, नीदरलैंड, जर्मनी, पाकिस्तान, संयुक्त अरब अमीरात जैसे कई देश शामिल हैं।

Leave a Reply