औरंगाबाद सांसद सुशील कुमार सिंह के एनएच 139 को चार लेन करने की मांग को बिहार सरकार का साथ

0
12
????????????????????????????????????

पटना, 9 जनवरी: औरंगाबाद से भाजपा सांसद सुशील कुमार सिंह पिछले लम्बे समय से राष्ट्रीय राजमार्ग 139 को दो से बढ़ाकर चार लेन करने की मांग करते आ रहे हैं. अब इस मुद्दे पर उन्हें बिहार सरकार का भी साथ मिल गया है. राज्य सरकार के पथ निर्माण विभाग में अपर मुख्य सचिव अमृत लाल मीणा ने केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के सचिव को इस संबंध में चिट्ठी लिखी है.

सांसद सुशील कुमार सिंह ने कहा कि एनएच 139 बिहार, झारखण्ड सहित पांच राज्यों को जोड़ती है. अगर इसे दो से चार लेन कर दिया जाए तो लाखों लोगों को राहत मिलेगी. ऐसा हो जाने से कनेक्टिविटी अच्छी होगी और साथ ही लोगों का खर्च और समय दोनों बचेगा. इससे क्षेत्र और राज्य की आर्थिक वृद्धि होगी.

उन्होंने आगे कहा कि पिछले लम्बे समय से मैं इस मुद्दे को संसद में उठाता रहा हूँ. मुझे हर बार यह कह दिया जाता था कि किसी राजमार्ग की लेन की संख्या को बढ़ाने के लिए उस पर चलने वाली गाड़ियाँ जितनी संख्या में होनी चाहिए, एनएच 139 पर चलने वाली गाड़ियों की उतनी संख्या नहीं है. लेकिन वर्तमान में इस राजमार्ग पर चलने वाली गाड़ियों की संख्या 10 हजार से अधिक है. केंद्र सरकार को इस पर ध्यान देते हुए जल्द से जल्द कार्य प्रारंभ करना चाहिए.

गया-नवादा और आरा-मोहनिया राजमार्ग का उदाहरण देते हुए सुशील कुमार सिंह ने कहा कि जब इन राजमार्गों के लेन की संख्या बढाई जा रही है तो एनएच 139 को चार लेन क्यों नहीं किया जा सकता? आगे उन्होंने कहा कि पटना से रांची जाने वाले लोगों की संख्या बहुत अधिक है. चार लेन हो जाने से पटना से रांची जाने के लिए एक वैकल्पिक मार्ग मिलेगा.   

सांसद सुशील कुमार सिंह ने कहा कि एनएच 139 बिहार, झारखण्ड सहित पांच राज्यों को जोड़ती है. अगर इसे दो से चार लेन कर दिया जाए तो लाखों लोगों को राहत मिलेगी. ऐसा हो जाने से कनेक्टिविटी अच्छी होगी और साथ ही लोगों का खर्च और समय दोनों बचेगा. इससे क्षेत्र और राज्य की आर्थिक वृद्धि होगी.

उन्होंने आगे कहा कि पिछले लम्बे समय से मैं इस मुद्दे को संसद में उठाता रहा हूँ. मुझे हर बार यह कह दिया जाता था कि किसी राजमार्ग की लेन की संख्या को बढ़ाने के लिए उस पर चलने वाली गाड़ियाँ जितनी संख्या में होनी चाहिए, एनएच 139 पर चलने वाली गाड़ियों की उतनी संख्या नहीं है. लेकिन वर्तमान में इस राजमार्ग पर चलने वाली गाड़ियों की संख्या 10 हजार से अधिक है. केंद्र सरकार को इस पर ध्यान देते हुए जल्द से जल्द कार्य प्रारंभ करना चाहिए.

गया-नवादा और आरा-मोहनिया राजमार्ग का उदाहरण देते हुए सुशील कुमार सिंह ने कहा कि जब इन राजमार्गों के लेन की संख्या बढाई जा रही है तो एनएच 139 को चार लेन क्यों नहीं किया जा सकता? आगे उन्होंने कहा कि पटना से रांची जाने वाले लोगों की संख्या बहुत अधिक है. चार लेन हो जाने से पटना से रांची जाने के लिए एक वैकल्पिक मार्ग मिलेगा.   

Leave a Reply