समुदाय पुस्तकालय से बदल रही साइबर अपराधों की राजधानी

0
407

मोनू कुमार

झारखण्ड का जामताड़ा जिला देश भर में साइबर ठगी के लिए कुख्यात है। यहाँ से किये गए कॉल से आम आदमी से लेकर राजनेता और व्यापारी तक को लाखों रुपए का चुना लग चुका है। इसी कारण जामताड़ा को देश में साइबर अपराधों की राजधानी भी कहा जाता है। इस पर वर्ष 2020 में नेटफ्लिक्स ने 10 एपिसोड की वेब सीरीज भी बनाई थी। अब जामताड़ा की सूरत बदलनी लगी है। इसके पीछे का कारण है जिलाधिकारी फैज़ अक़ अहमद मुमताज़ द्वारा शुरू की गई समुदाय पुस्तकालय की पहल।

समुदाय पुस्तकालय की शुरुआत

समुदाय पुस्तकालय बनाने की शुरुआत के बारे में बताते हुए जामताड़ा के जिलाधिकारी फैज़ अक़ अहमद मुमताज़ ने बताया कि पिछले साल सितम्बर माह में एक गाँव में फील्ड विजिट के दौरान वहां के बच्चों ने उन्हें बताया कि गाँव में पढ़ने लिखने का माहौल नहीं है। इसके बाद उनके मन में समुदाय पुस्तकालय बनाने का ख्याल आया और नवम्बर महीने में पहली समुदाय पुस्तकालय की शुरुआत हुई। अभी जामताड़ा जिले के 118 पंचायतों में से 114 पंचायतों में पुस्तकालय चल रही है। बाकी के चार पंचायतों में भी पुस्तकालय बन कर तैयार हो चुकी है और आने वाले दिनों में इनकी भी शुरुआत हो जाएगी।

खाली पड़े सरकारी भवनों में बनाया जा रहा है पुस्तकालय

पुस्तकालय खाली पड़े सरकारी भवनों को नया रंग-रूप देकर चलाया जा रहा है। इसके लिए किताबों, टेबुल, कुर्सी, पंखा, बिजली और अन्य जरूरी वस्तुओं का इंतज़ाम सीएसआर फंड से किया जाता है। पुस्तकालय के संचालन के लिए स्थानीय स्तर पर समिति बनाई जाती है जिसमें 10 सदस्य होते हैं और संचालन से जुड़े सभी फैसले लेती है। साथ ही सभी पुस्तकालयों के बैंक अकाउंट भी खोले गए हैं जिसमें कोई भी व्यक्ति सहयोग कर सकता है।

हर हफ्ते सरकारी अधिकारी लेते हैं क्लास

इन पुस्तकालयों में सरकारी नौकरी की तैयारी से जुड़े किताबें, अख़बार और मैगजीन उपलब्ध हैं। सरकारी नौकरी की तैयारी करने वाले युवाओं के साथ स्कूल जाने वाले बच्चे यहाँ आकर पढाई करते हैं। साथ ही सप्ताह में एक बार जिला स्तर के अधिकारी पुस्तकालय जाते हैं और बच्चों को पढ़ाते हैं। गरीब परिवार के बच्चे जो किताबें नहीं खरीद सकते उन्हें इससे बहुत मदद मिलती है।

पुस्तकालयों की जानकारी वेबसाइट पर है उपलब्ध

जिले के सभी पुस्तकालयों की जानकारी पंचायत वार जामताड़ा जिले के वेबसाइट (https://jamtara.nic.in/community-libraries-jamtara/) पर दी गयी है। वेबसाइट पर पंचायत का नाम, पुस्तकालय का लोकेशन, लाइब्रेरियन का नाम और मोबाइल नंबर की जानकारी उपलब्ध है। इस पहल के लिए जामताड़ा जिला प्रशासन को इस वर्ष के स्कोच पुरस्कार में सिल्वर अवार्ड से नवाज़ा गया है।

Leave a Reply