महामारी में इंसानियत की नई मिसाल पेश कर रहे शहरवासी

0
461

मोनू कुमार

पटना: एक ऐसे समय में जब पूरा देश कोरोना वायरस महामारी से लड़ाई लड़ रहा है और स्वास्थ्य व्यवस्था चड़मड़ा गई है तो आम लोगों को एक – दूसरे का ही सहारा बचा है। पटना में कई ऐसे परिवार हैं जहां सभी सदस्यों को कोरोना ने जकड़ लिया है। वे बाहर नहीं जा सकते हैं और सरकार द्वारा इनके लिए कोई व्यवस्था भी नहीं की गई है। ऐसे में कई लोग आगे हैं जो पका हुआ भोजन जरूरतमंदों तक पहुंचा रहे हैं।

पटना विमेंस कॉलेज की प्रोफेसर

पटना विमेंस कॉलेज के भौतिकी विभाग की अपराजिता कृष्णा कोरोना से संक्रमित मरीजों को भोजन उपलब्ध करा रही हैं। इस कार्य में उनका साथ देती हैं उनकी बेटी कृतिका रम्या। कृतिका सोशल मीडिया के माध्यम से जरूरतमंद लोगों के साथ संपर्क स्थापित करती हैं और फिर उन्हें खाना पहुंचाती हैं।

शिक्षक रमेश मिश्रा

इस विपरीत परिस्थिति में रमेश कुमार मिश्रा भी कोरोना से प्रभावित परिवारों तक घर का बना हुआ भोजन पहुंचा रहे हैं। रमेश मिश्रा पेशे से शिक्षक हैं। वे कहते हैं कि कोरोना की दूसरी लहर में कई ऐसे मामले सामने आ रहे हैं जिसमें परिवार के सभी सदस्य कोरोना संक्रमित हो गए हैं। ऐसे में इनकी मदद करना बहुत जरूरी है।

पटना कॉलेज के छात्र

कोरोना संक्रमित मरीजों की मदद के लिए पटना कॉलेज के कई छात्र भी आगे आए हैं। ये छात्र जरूरतमंदों तक रोजाना भोजन और दवाईयां पहुंचा रहे हैं।

सोशल मीडिया से युवा कर रहे मदद

इस महामारी में सोशल मीडिया मदद का एक बड़ा माध्यम बनकर सामने आया है। कई लोग जिन्हें अस्पताल में बेड, ऑक्सीजन सिलिंडर, दवाइयों और भोजन की आवश्यकता होती है, वे मदद के लिए सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हैं और फिर युवा इनकी सहायता करते हैं। इसके लिए युवाओं ने फेसबुक और व्हाट्सएप पर कई ग्रुप भी बनाये हैं।

Leave a Reply